Menu
  • News paper
  • Video
  • Audio
  • CONTACT US
  • Kartija Arjun   15 June 2017 1:11 PM

    भांडुप-मुम्बई में पूज्य गुरुजी का अनुपम विराट् वर्षावास

    जैन एकता का महाकुंभ
    चातुर्मास-प्रवेश :2 जुलाई, रविवार

     सामाजिक एकता और साम्प्रदायिक सद्भावना के प्रबल उद्घोषक,

    हजारों जिंदगियों के कुशल मार्गदर्शक,
    जाने-माने क्रांतिकारी ओजस्वी प्रवचनकार,
    पूज्यवर गुरुजी आचार्य श्री विमलसागरसूरीश्वरजी महाराज साहब एवं
    मुनि प्रवर श्री पद्मविमलसागरजी महाराज साहब का.....

     इस वर्ष का ऐतिहासिक चातुर्मास मुम्बई के उपनगर भांडुप में होने जा रहा है.

     यह चातुर्मास जैनधर्म के चारों फिरकों के 13 श्रीसंघों द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया जा रहा है.

     भारतभर के जैन समाज के लिये यह एक प्रेरणादायी विरल प्रसंग है.

     2 जुलाई 2017, रविवार को होने जा रहे पूज्यवर गुरुजी के इस भव्य चातुर्मास प्रवेश पर आप सभी को अधिक-अधिक संख्या में पधारकर जिनशासन की प्रभावना में सहभागी बनने का हम करबद्ध निवेदन करते हैं.

    ~~~~~
     कार्यक्रम :

    प्रातः 7.15 बजे : नवकारशी. (नेप्च्यून मॉल, LBS रोड, भांडुप-वेस्ट)

    प्रातः 8.15 बजे : नेप्च्यून मॉल से विराट स्वागतयात्रा (सामैये) का शुभारंभ.

    प्रातः 9.30 बजे : चातुर्मास प्रवेश की गौरवशाली धर्मसभा (श्री जिनशासन वाटिका, कुकरेजा कॉम्प्लेक्स, LBS मार्ग, भांडुप-वेस्ट, मुम्बई )
    ~~~~~

     आयोजक :

    ● भांडुप सकल जैन संघ, भांडुप.

    ● श्री जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ, मेवाड़/मुंबई.

    ● श्री राजस्थान जैन मूर्तिपूजक तपागच्छ संघ, भट्टीपाड़ा, भांडुप.

    ● श्री जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक तपागच्छ संघ, ईश्वर नगर, भांडुप.

    ● श्री राजस्थान जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ, प्रताप नगर, भांडुप.

    ● श्री वासुपूज्यस्वामी जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ, महाराष्ट्र नगर, भांडुप.

    ● श्री विलेज रोड जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ, विलेज रोड, भांडुप.

    ● श्री वर्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ, मेवाड़/भांडुप-मुलुंड.

    ● श्री १००८ पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन समाज, भांडुप.

    ● श्री जैन श्वेतांबर तेरापंथी सभा, भांडुप.

    ● श्री कच्छी दशा ओसवाल जैन संघ, भांडुप.

    ● श्री कच्छी विशा ओसवाल अचलगच्छ जैन संघ, भांडुप.

    ● श्री कुकरेजा कॉम्प्लेक्स जैन संघ, भांडुप.

    ● श्री सुविधिनाथ जैन देरासर, दामजी नेनशी वाड़ी, भांडुप.


    STAY CONNECTED

    FACEBOOK
    TWITTER
    YOUTUBE