Menu
  • News paper
  • Video
  • Audio
  • CONTACT US
  • प्रेषक-भरत एन. कोठारी   12 June 2017 7:37 PM

    श्री मुनिसुव्रत स्वामी जैन मित्र मंडल भायंदर-मीरा रोड द्वारा आयोजिय

     

    मीरा-भायंदर की तमाम पाठशालाओं के बच्चों का अद्भुत-अद्वित्य-अभूतपूर्व आयोजन गहुली,रंगोली,नृत्य,गीत,और नाटक प्रतियोगिता का फाइनल बड़े ही हर्षोल्हाश के साथ में संपन

    • बच्चे देश और समाज के भविष्य होते है।उनको अपनी भव्य विरासत और संस्कृति की पहचान कराने से उस देश का भावी

              उज्जवल बनता है तथा उस समाज का संचालन सूंदर बनता है।

    • जो माँ बाप अपने बच्चो को संस्कार और धर्म से जोड़कर रखने में विश्वास रखते है, उस समाज के साथ ही उन मात-पिता का बुढ़ापा भी सुरक्षित हो जाता है।
    • श्री मुनिसुव्रत स्वामी जैन मित्र मंडल भायंदर-मीरा रोड के बैनर तले सम्पन्न कार्यक्रम गहुली,

          रंगोली,गीत,डांस,नाटक प्रतियोगिताओ से जैन समाज की प्रतिभाओं को अपनी प्रतिभा प्रस्तुत करने और निखारने का अवसर तो मिला ही साथ ही जैन धर्म          सम्बंधित ज्ञान में भी अभिवृद्धि हुई है।

    • कार्यक्रम देखने पधारे हजारो श्रोताओ का भी धर्म सम्बंधित ज्ञान विकसित हुआ है।
    • वर्तमान में चारो और भौतिकता की अंधीदौड़ चल रही है ऐसे में जैन समाज के बालक और भविष्य के श्रावक धर्म से जुड़े रहे ये जिम्मेदारी हम सभी की है,उन बच्चो की धार्मिक शिक्षण,

    तत्वज्ञान,जैन सिद्धान्तों आदि की जानकारी उपलब्ध करवाना हम सभी का दायित्व है ।

    • इसी फर्ज को अंजाम देने और जैन समाज में छुपी प्रतिभाओं को दुनिया के मंच पर अवसर देने,श्री मुनिसुव्रत जैन मित्र मंडल ने विशाल स्तर पर गहुली,

    रंगोली,गीत,नाटक और नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन करके जो भागीरथी कार्य किया है उसकी जितनी अनुमोदना की जाये कम है।

    • श्री मुनिसुव्रत स्वामी जैन मित्र मंडल भायंदर - मीरा रोड द्वारा आयोजित,समस्त भायंदर -मीरा रोड के पाठशाला के बालक बालिका की सामूहिक प्रतियोगिता का semifinal शनिवार और रविवार को संपन्न हुआ था,जिसके अंतर्गत.....
    • रंगोली एवम् गहुली
    • गीत
    • डांस
    • नाटक
    • आदि प्रतियोगिताएं विराट स्तर पर सम्पन्न हुई थी उसी का grand final, सोमवार को संतोक ग्राउंड में संपन्न हुआ जिसमे....
    • गहुली स्पर्धा के final में पहुचे 5 से 13 साल के बच्चों को पाँच (1-2-3-4-5)इनाम प्रदान किये गए
    • 13 साल से ऊपर के बच्चों को रंगोली स्पर्धा मे, 1-2-3 इनाम प्रदान किये गए
    • सेमीफाइनल में टोटल 36 नाटक में 5 नाटक का फ़ाइनल में चयन हुआ था और उनमे से 1/2/3 पुरूस्कार प्रदान किये गए
    • गीत प्रतियोगिता में टोटल 118 बच्चों में से फ़ाइनल में पहुचे 15 बच्चो को 3 इनाम(1-2-3) प्रदान किये गए
    • डांस में 198 में से फाइनल में पहुचे 15 बच्चो में से 1/2/3 को इनाम प्रदान किये गए
    • इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि और लाभार्थी,मीरा-भायंदर के लोकप्रिय विधायक श्री नरेंद्रकुमार लालचंदजी मेहता(देसूरी) थे
    • साथ ही इस अवसर पर प्रमुख समाज के गणमान्य उपस्तिथि में मीरा-भायंदर की महापौर श्रीमती गीताजी जैन,नगरसेवक डॉ.रमेशजी जैन,डॉ.राजेन्द्रजी जैन

    ,ध्रुवकिशोरजी पाटिल,दिनेशजी जैन,सुरेशजी खंडेलवाल,रविजी व्यास,नगरसेविका सीमाजी शाह के साथ समाज के तमाम गणमान्य ने अपनी उपस्तिथि दर्ज कराई।

    • फाइनल के निर्णायक की भूमिका में "भक्ति संगीतरत्न" श्री जितेंद्रजी कोठारी,"साहित्यरत्न"

    कवी,गीतकार,लेखक श्री प्रदीपजी ढालावत,श्री सुरेन्द्रजी मुणोत,
    श्रीमती चंदाजी मेहता,और सीमाजी जैन और कुनाल सर ने अपनी भूमिका निभाई।

    • सभी अतिथियों, निर्णायकों का मंडल द्वारा बहुमान किया गया।
    • साथ ही प्रतियोगिता के फाइनल में जितने वाले पाठशालाओ के बच्चों का आमदार श्री नरेन्द्रजी मेहता द्वारा ट्रॉफी देकर उनका सम्मान किया गया।
    • करीबन 5 घंटे चले कार्यक्रम में मीरा-भायंदर की तमाम पाठशालो के बच्चों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुति दी।जिसे वहाँ पर बैठे सभी अतिथियों और दर्शको ने खुब सराहा।
    • कुल मिलाकर ये कार्यक्रम बहुत ही सफल रहा।जिसे आने वाले दिनों में याद रखा जायेगा।कार्यक्रम को सफल बनाने में मंडल के सभी सदस्यों का सहयोग रहा।
    • संपूर्ण कार्यक्रम का मंच संचालन मंडल के उपाध्यक्ष भरत एन.कोठारी(कोसेलाव )द्वारा किया गया।

     

     

     

     

     

     


    STAY CONNECTED

    FACEBOOK
    TWITTER
    YOUTUBE